Samrat Mixture
Breaking News

कम सपॉर्ट स्टाफ लेकर जाना चाहते हैं आईपीएल फ्रैंचाइजी

Edited By Bharat Malhotra | टाइम्स न्यूज नेटवर्क | Updated:

NBT

अरानी बासु, नई दिल्ली

इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) की गर्वनिंग काउंसिल की रविवार को बैठक होनी है। इसमें आईपीएल के आयोजन को लेकर कई मुद्दों पर चर्चा होगी। लीग कैसे करवाई जाएगी, उसके लिए क्या दिशा-निर्देश होंगे, ये इस बैठक में चर्चा के अहम बिंदु होंगे। इस बैठक में यूएई में होने वाले आईपीएल के लिए स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसिजर (SOPs) को अंतिम रूप दिया जाएगा।

एक आईपीएल फ्रैंचाइजी में आमतौर पर 25-28 खिलाड़ी होते हैं। इसके अलावा कम-से-कम 10 से 15 सदस्य सपॉर्ट स्टाफ के होते हैं। हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया को पता चला है कि आईपीएल फ्रैंचाइजी को अपना खुद का बायो-बबल तैयार करना पड़ेगा। इसमें टूर्नमेंट शुरू होने से करीब एक महीना पहले यूएई पहुंचना भी शामिल है। इसके अलावा अपने दल के सदस्यों की संख्या भी कम रखना भी एक विकल्प हो सकता है।

पिछली बार आईपीएल 2014 में यूएई में खेला गया था। उस दौरान टीमें छोटा दल लेकर गई थीं। आमतौर पर फ्रैंचाइजी सीजन के बीच में ही कई खिलाड़ियों को रिलीव कर देती हैं, अगर वह अंतिम एकादश तय नहीं कर पाते हैं।

टाइम्स ऑफ इंडिया को पता चला है कि फ्रैंचाइजी से कहा गया है कि खिलाड़ियों की संख्या 20 तक सीमित करने को कहा गया है। इसके पीछे ड्रेसिंग रूम में कम से कम भीड़ रखना है। हालांकि, फ्रैंचाइजी को लगता है कि खिलाड़ियों की संख्या कम नहीं करनी चाहिए।

एक वरिष्ठ फ्रैंचाइजी अधिकारी ने बताया, ‘अगर दल की संख्या कम करने की बात भी होती है तो फ्रैंचाइजी नॉन-प्लेइंग स्टाफ की संख्या मे ही कमी की जा सकती है। कुछ फ्रैंचाइजी कोच या टीम मैनेजमेंट पर आखिरी फैसला छोड़ सकती है। अगर कोई लिमिट लगाई भी जाती है तो बेहतर होगा कि कुल संख्या पर लगाई जाए।’

उन्होंने आगे कहा, ‘मैच के दिनों पर, यह हो सकता है कि फ्रैंचाइजी पर मैदान पर लाने वाले खिलाड़ियों को लेकर एक लिमिट लगा दी जाए। इसके अलावा सपॉर्ट स्टाफ के कुछ सदस्यों को भी होटल में ही रहने को कहा जा सकता है।’

नेट बोलर भी हैं चुनौती

फ्रैंचाइजी के लिए बड़ी चुनौती प्रैक्टिस के लिए सही सुविधाएं उपलब्ध करवाना भी है। इतने सख्त नियम कायदों के बीच प्रैक्टिस के लिए सही साधन मुहैया करवाना पिछळी बार की तरह आसान नहीं होगा। एक अधिकारी ने कहा, ‘इसी वजह से फ्रैंचाइजी को अधिक खिलाड़ियों की जरूरत होगी। टीमें यूएई में करीब दो से ढाई महीने तक रहेंगी। इतनी टीमों के लिए नेट बोलर्स का इंतजाम करना आसान नहीं होगा।’

चेन्नै सुपर किंग्स बाकी टीमों से पहले जाएगी

चेन्नै सुपर किंग्स की टीम 10 अगस्त को दुबई पहुंच जाएगी। टाइम्स ऑफ इंडिया को पता चला है कि कोलकाता नाइट राइडर्स 19-20 अगस्त वहीं बाकी टीमें 25 अगस्त तक पहुंच सकती हैं। बीसीसीआई के एक सूत्र ने बताया, ‘चेन्नै सुपर किंग्स ने अधिक सक्रिय रही है। उन्होंने खिलाड़ियों को तैयार रहने और 10 अगस्त को निकलने को कहा है। लेकिन बीसीसीआई द्वारा SOPs में देरी के चलेत उनका प्लान तब्दील हो सकता है।’

(खेल और देश-दुनिया की हर खबर अब Telegram पर भी। हमसे जुड़ने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें और पाते रहें हर जरूरी अपडेट।)

Source link

Samrat Mixture