Samrat Mixture
Breaking News

कोरोना वैक्सीन पर AstraZeneca ने दी खुशखबरी, कहा- ट्रायल के दौरान मिला अब तक का सबसे अच्छा डेटा

Coronavirus Vaccine Updates: स्ट्राजेनेका और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की तरफ से विकसित की जा रही कोरोना वैक्सीन AZD1222 के परीक्षण के बेहद उत्साहपूर्ण नतीजे आ रहे हैं। इस वैक्सीन का तीसरे चरण का ह्यूमन ट्रायल जारी है। वहीं, दूसरे चरण के नतीजों को लेकर कंपनी ने खुशी जताई है।

Edited By Priyesh Mishra | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

कोरोना वायरस वैक्सीनकोरोना वायरस वैक्सीन
हाइलाइट्स

  • एस्ट्राजेनेका और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की कोरोना वैक्सीन AZD1222 के परीक्षण के नतीजे बेहद उत्साहपूर्ण
  • कंपनी के चीफ एक्जिक्यूटिव पास्कल सोरिट्स ने कहा- वैक्सीन के परीक्षण को लेकर अब तक का सबसे अच्छा डेटा मिला
  • कोरोना वायरस की वैक्सीन विकसित करने के लिए दुनियाभर में करीब 180 विकल्पों पर इस वक्त काम जारी

लंदन

एस्ट्राजेनेका और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की तरफ से विकसित की जा रही कोरोना वैक्सीन AZD1222 के परीक्षण के बेहद उत्साहपूर्ण नतीजे आ रहे हैं। इस वैक्सीन का तीसरे चरण का ह्यूमन ट्रायल जारी है। वहीं, दूसरे चरण के नतीजों को लेकर कंपनी ने खुशी जताई है। जल्द ही इसका डेटा साइंस जर्नल में प्रकाशित किया जाएगा।

वैक्सीन को लेकर अब तक का सबसे अच्छा डेटा

कंपनी के चीफ एक्जिक्यूटिव पास्कल सोरिट्स ने कहा कि वैक्सीन का विकास बहुत अच्छा चल रहा है। हमें वैक्सीन के परीक्षण को लेकर अब तक का सबसे अच्छा डेटा मिल रहा है। इसे जिन वॉलंटिअर्स को दिया गया था, उनके शरीर में वायरस के खिलाफ लड़ने वाली ऐंटीबॉडी के साथ-साथ वाइट ब्लड सेल्स Killer T-cells भी पाए गए।

कोरोना के लिए ‘रामबाण’ बनेगी ऑक्‍सफर्ड वैक्‍सीन

कोरोना वायरस की वैक्सीन विकसित करने के लिए दुनियाभर में करीब 180 विकल्पों पर इस वक्त काम चल रहा है और अलग-अलग रिसर्च में सकारात्मक नतीजे सामने आने लगे हैं। अमेरिका की Moderna Inc की वैक्सीन mrna1273 इंसानों पर पहले ट्रायल में सफल भी रही है।

AstraZeneca बन सकती है दुनिया की सबसे बड़ी फार्मा कंपनी

दवा निर्माता कंपनी अस्ट्राजेनेका दुनिया की सबसे बड़ी फार्मा कंपनी बन सकती है, क्योंकि यह अपनी प्रतिद्वंद्वी औषधि कंपनी गिलियड के साथ विलय पर विचार कर रही है। मामले की जानकारी रखने वाले सूत्रों से यह जानकारी मिली है। अगर ऐसा हुआ तो यह हेल्थकेयर सेक्टर में अब तक की सबसे बड़ी डील होगी।

कोरोना की वैक्सीन बना रही AstraZeneca बन सकती है दुनिया की सबसे बड़ी फार्मा कंपनी

भारत की सीरम इंस्टिट्यूट के साथ समझौता

भारत की सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया दुनिया की सबसे बड़ी टीकानिर्माता कंपनी है। यह हर साल 1.5 अरब वैक्सीन डोज तैयार करती है जिनमें पोलियो से लेकर मीजल्स तक के टीके शामिल हैं। ऑक्सफर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्राजेनेका ने इसी भारतीय कंपनी को अपनी कोविड-19 वैक्सीन बनाने के लिए चुना है। पूणे की इस कंपनी ने पहले कहा था कि वह आखिरी आदेश मिलने से पहले ही वैक्सीन बनाना शुरू कर देगी ताकि जब तक सभी अनुमतियां मिलें तब तक अच्छी-खासी मात्रा में वैक्सीन रेडी हो सके।

गंभीर साइड इफेक्ट्स नहीं

  • गंभीर साइड इफेक्ट्स नहीं

    रिसर्च पेपर में बताया गया कि वैक्सीन में जो वायरल वेक्टर इस्तेमाल किया गया है, उसमें SARS-CoV-2 का स्पाइक प्रोटीन है। दूसरे फेज 1/2 में 5 जगहों पर 18-55 साल की उम्र के लोगों पर वैक्सीन का ट्रायल किया गया। कुल 56 दिन तक चले ट्रायल में 23 अप्रैल से 21 मई के बीच जिन लोगों को वैक्सीन दी गई थी उनमें सिरदर्द, बुखार, बदन दर्द जैसी शिकायतें पैरासिटमॉल से ठीक हो गईं। ज्यादा गंभीर साइड इफेक्ट्स नहीं हुए।

  • ऐंटीबॉडी और T-cell मिले

    पेपर में आगे बताया गया है कि 14 दिन बाद स्पाइक प्रोटीन को पहचानने वाले T-cell देखे गए। 28 दिन पर इन प्रोटीन से लड़ने के लिए ऐंटीबॉडी (IgG) भी देखी गई जो दूसरी डोज दिए जाने पर बढ़ गई। 90% लोगों में वायरस पर ऐक्शन करने वाली ऐंटीबॉडी पहली डोज के बाद पाई गईं। दूसरी डोज देने पर सभी वॉलंटिअर्स में न्यूट्रिलाइज करने वाली ऐंटीबॉडी की ऐक्टिविटी देखी गई। ये दोनों साथ मिलकर शरीर को सुरक्षा देते हैं। दरअसल, पहले की स्टडीज में यह बात सामने आई है कि ऐंटीबॉडी कुछ महीनों में खत्म भी हो सकती हैं लेकिन T-cells सालों तक शरीर में रहते हैं।

  • अगले चरण के लिए सुरक्षित

    इसके साथ ही यह कहा गया है कि ChAdOx1 nCoV-19 के नतीजे सुरक्षा मानकों के अनुसार हैं और ऐंटीबॉडी रिस्पॉन्स भी पैदा कर रहे हैं। ये नतीजे ह्यूमरल और सेल्युलर रिस्पॉन्स के साथ मिलकर इस वैक्सीन को बड़े स्तर पर तीसरे फेज के ट्रायल के लिए कैंडिडेट होने का सपॉर्ट करते हैं। ऑक्सफर्ड की टीम इस वैक्सीन पर ब्रिटेन की फार्मासूटिकल कंपनी AstraZeneca के साथ मिलकर काम कर रही है। Astrazeneca वैक्सीन के लिए एक इंटरनैशनल सप्लाई चेन तैयार कर रही है।

  • कोरोना के लिए 'रामबाण' बनेगी ऑक्‍सफर्ड वैक्‍सीन, रेस में सबसे आगे
  • Moderna के नतीजे भी सफल

    इससे पहले अमेरिकी कंपनी मॉडर्ना की कोरोना वायरस वैक्‍सीन (Moderna Coronavirus Vaccine) अपने पहले ट्रायल में पूरी तरह से सफल रही। न्‍यू इंग्‍लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन में छपे अध्‍ययन में कहा गया है कि 45 स्‍वस्‍थ लोगों पर इस वैक्‍सीन के पहले टेस्‍ट के परिणाम बहुत अच्‍छे रहे हैं। इस वैक्‍सीन ने प्रत्‍येक व्‍यक्ति के अंदर कोरोना से जंग के लिए ऐंटीबॉडी विकसित किया। इस पहले टेस्‍ट में 45 ऐसे लोगों को शामिल किया गया था जो स्‍वस्‍थ थे और उनकी उम्र 18 से 55 साल के बीच थी।

  • भारत में भी 7 कंपनियां जुटीं

    भारत में भी कम-से-कम सात कंपनियां वैक्सीन बनाने के काम में जुटी हैं। घरेलू फार्मा कंपनियों की बात की जाए तो भारत बायोटेक (Bharat Biotech), सीरम इंस्टिट्यूट (Serum Institute), जायडस कैडिला (Zydus Cadila), पैनेशिया बायोटेक (Panacea Biotec), इंडियन इम्यूनोलॉजिकस (Indian Immunologicals), मायनवैक्स (Mynvax) और बायोलॉजिकल ई (Biological E) कोविड-19 का टीका तैयार करने का प्रयास कर रही हैं।

देश-दुनिया और आपके शहर की हर खबर अब Telegram पर भी। हमसे जुड़ने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें और पाते रहें हर जरूरी अपडेट।

Web Title coronavirus vaccine updates astrazeneca says good data so far during human trials(Hindi News from Navbharat Times , TIL Network)

रेकमेंडेड खबरें

Source link

Samrat Mixture