Samrat Mixture
Breaking News

कुलभूषण जाधव केस में पाक का नया पैंतरा, सुनवाई के लिए दो सदस्यीय पीठ गठित की

Edited By Priyesh Mishra | पीटीआई | Updated:

कुलभूषण जाधवकुलभूषण जाधव
हाइलाइट्स

  • पाकिस्तान हाईकोर्ट ने कुलभूषण जाधव मामले में सुनवाई के लिए दो सदस्यीय पीठ का गठन किया
  • सोमवार को कुलभूषण जाधव को लेकर दायर पाकिस्तान सरकार की याचिका पर सुनवाई करेगी इस्लामाबाद हाईकोर्ट
  • पाक सरकार ने जाधव के लिए कानूनी प्रतिनिधि नियुक्त करने की मांग की, भारत समेत किसी भी पक्षकार से नहीं किया परामर्श

इस्लामाबाद

कुलभूषण जाधव केस में पाकिस्तान ने नया पैंतरा चलते हुए बिना भारत से सलाह मशविरा किए सुनवाई के लिए दो सदस्यीय पीठ का गठन किया है। पाकिस्तान के मीडिया ने खबर प्रकाशित-प्रसारित की कि इस्लामाबाद हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश अतहर मिनल्ला और साथी जज मियांगुल हसन औरंगजेब की पीठ सोमवार को सरकार की याचिका पर सुनवाई करेगी।

भारत समेत मुख्य पक्षकारों से परामर्श के बिना फैसला

पाकिस्तान ने 22 जुलाई को एकपक्षीय कदम उठाते हुए अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत (आईसीजे) में याचिका दाखिल कर जाधव के लिए कानूनी प्रतिनिधि नियुक्त करने की मांग की थी। हालांकि पाकिस्तान के कानून और न्याय मंत्रालय द्वारा 20 मई को लागू अध्यादेश के तहत आवेदन दाखिल किये जाने से पहले भारत सरकार समेत मुख्य पक्षों से परामर्श नहीं किया गया।

नए अध्यादेश से जाधव को फंसा रहा पाक

अंतरराष्ट्रीय न्याय समीक्षा और पुनर्विचार अध्यादेश 2020 के तहत किसी सैन्य अदालत के फैसले पर पुनर्विचार के लिए याचिका अध्यादेश लागू होने के 60 दिन के अंदर एक आवेदन के माध्यम से इस्लामाबाद हाई कोर्ट में दाखिल की जा सकती है। पाक संसद ने इसी सप्ताह अध्यादेश को मंजूरी दी थी। भारतीय नौसेना के सेवानिवृत्त अधिकारी जाधव (50) को अप्रैल 2017 में जासूसी और आतंकवाद के आरोपों में पाकिस्तान की एक सैन्य अदालत ने मौत की सजा सुनाई थी।

आईसीजे के फैसले का भी पालन नहीं कर रहा पाक

जाधव को पाकिस्तान द्वारा राजनयिक पहुंच नहीं दिये जाने के खिलाफ और उन्हें सुनाई गई मौत की सजा को चुनौती देने के लिए भारत ने आईसीजे का रुख किया था। हेग स्थित आईसीजे ने जुलाई 2019 में व्यवस्था दी थी कि पाकिस्तान को जाधव की दोषिसिद्धि और उन्हें सुनाई गयी मौत की सजा पर प्रभावी तरीके से पुनर्विचार करना चाहिए।

हाईकोर्ट से कानूनी प्रतिनिधि नियुक्त करने की मांग

स्थानीय मीडिया की खबरों के अनुसार पाकिस्तान सरकार ने अपनी याचिका में इस्लामाबाद हाई कोर्ट से कहा है कि जाधव के लिए एक कानूनी प्रतिनिधि नियुक्त किया जाए ताकि पाकिस्तान आईसीजे के फैसले के क्रियान्वयन की अपनी जिम्मेदारी पूरी कर सके।पाकिस्तान के विदेश कार्यालय की प्रवक्ता आइशा फारूकी ने पिछले सप्ताह कहा था कि आईसीजे के निर्णय को लागू करने के लिए आवश्यक कदम उठाये गये हैं।

कुलभूषण जाधव केस में पाक का नया ड्रामा, वकील देने के लिए हाईकोर्ट में दायर की याचिका

पाक का दावा- जाधव ने पुनर्विचार याचिका दाखिल करने से किया इनकार

पाकिस्तान सरकार ने दावा किया था कि जाधव ने फैसले पर पुनर्विचार करने के लिए याचिका दाखिल करने से इनकार किया है। नई दिल्ली में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने पिछले सप्ताह कहा था कि पाकिस्तान ने जाधव को सुनाई गयी मौत की सजा के खिलाफ उन्हें उपलब्ध कानूनी उपाय मुहैया नहीं कराके एक बार फिर कपटपूर्ण रुख अपनाया है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने इस मामले में भारत के पास उपलब्ध सभी रास्ते बंद कर दिये हैं।

कुलभूषण जाधव केस: पाकिस्तान की संसद में पेश अध्यादेश बिल, मिलेगी पुनर्विचार याचिका दाखिल करने की इजाजत

भारत ने पाक को दिखाया आईना, सुनाई खरी-खरी

श्रीवास्तव ने इस बात का जिक्र किया कि नई दिल्ली ने पिछले एक साल में जाधव से राजनयिक संपर्क कराने का 12 बार अनुरोध किया है। उन्होंने कहा कि बार-बार के अनुरोध के बावजूद मामले से जुड़े दस्तावेज उपलब्ध नहीं कराने की पूरी कवायद, निर्बाध राजनयिक संपर्क मुहैया नहीं कराने देने और पाकिस्तान द्वारा कुछ कथित एकतरफा कार्रवाई करते हुए एक बार फिर से उच्च न्यायालय का रुख करना पाकिस्तान के कपटपूर्ण रवैया को बेनकाब करता है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि पाकिस्तान न सिर्फ आईसीजे के निर्णय का, बल्कि अपने खुद के अध्यादेश का भी उल्लंघन कर रहा है।

देश-दुनिया और आपके शहर की हर खबर अब Telegram पर भी। हमसे जुड़ने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें और पाते रहें हर जरूरी अपडेट।

Source link

Samrat Mixture