Samrat Mixture
Breaking News

टेस्ट क्रिकेट में सबसे तेजी से 500 विकेट लेने वाले गेंदबाज

नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

टेस्ट क्रिकेट में सबसे तेजी से 500 विकेट लेने वाले गेंदबाजटेस्ट क्रिकेट के 143 साल के इतिहास में सिर्फ 7 गेंदबाज ही यहां पहुंच पाए हैं। सिर्फ 7 बोलर हैं जिनके नाम 500 या उससे ज्यादा टेस्ट विकेट हैं। एक नजर डालते हैं टेस्ट क्रिकेट में सबसे तेजी से 500 विकेट लेने वाले गेंदबाजों पर

मुथैया मुरलीधरन (श्रीलंका)- 87 मैच

NBT

श्रीलंका के दिग्गज स्पिनर मुथैया मुरलीधरन ने अपने टेस्ट करियर में कई रेकॉर्ड तोड़े। उनके हाथ में गेंद आती तो बल्लेबाज के लिए उसे पढ़ पाना बहुत मुश्किल था। उनका गेंदबाजी ऐक्शन विवादों में रहा। कई बार जांच हुई लेकिन हर बार वह क्लीन साबित हुए। मुरली ने टेस्ट करियर में 800 विकेट लिए। इस प्रारूप में सबसे ज्यादा। वह सबसे तेजी से 500 टेस्ट विकेट हासिल करने वाले गेंदबाज भी हैं। उन्होंने सिर्फ 87 मैचों में यह मुकाम हासिल कर लिया। मुरली ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ कैंडी में माइकल कैस्प्रोविच को आउट कर यह मुकाम हासिल किया था। दिनों की बात करें तो सिर्फ 11 साल 201 दिन में मुरली ने यह पड़ाव हासिल किया। मुरली ने अपने करियर में 133 टेस्ट मैच खेले और 800 विकेट लिए। उनका स्ट्राइक रेटरहा 55 का। उन्होंने पारी में 67 बार पांच विकेट लिए और 22 बार मैच में 10 विकेट लिए।

अनिल कुंबले (भारत)- 105 मैच

NBT

स्पिनर की पहचान होती है गेंद को टर्न कराना। अपनी फिरकी के जाल में वह बल्लेबाज को फांसता है। शेन वॉर्न से लेकर मुरलीधरन तक सभी ने अपनी घूमती गेंदों से बल्लेबाजों को परेशान किया। लेकिन अनिल कुंबले इस मामले में अलग थे। उनके पास वॉर्न और मुरली जैसा टर्न नहीं था लेकिन इसके बावजूद उन्होंने अपने लिए और भारत के लिए बड़ी उपलब्धियां हासिल कीं। कुंबले के पासकभी हार न मानने वाला रवैया था। उनके पास बल्लेबाज को अपनी सटीकता से फंसाने का हुनर था। वह एक ओवर में छह अलग तरह की गेंद फेंक सकते थे। कुंबले सबसे तेज 500 टेस्ट विकेट लेने वाले गेंदबाजों की फेरहिस्त में दूसरे नंबर पर हैं। उन्होंने अपने 105वें टेस्ट में यह उपलब्धि हासिल की। उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ मोहाली में स्टीव हार्मिसन को आउट कर यह मुकाम हासिल किया। 15 साल 212 दिन लगे कुंबले को 500 का आंकड़ा छूने के लिए। 132 टेस्ट मैचों में उन्होंने 619 विकेट लिए। वह भारत के सबसे कामयाब गेंदबाज हैं। और साथ ही 500 के क्लब में शामिल इकलौते भारतीय गेंदबाज।

शेन वॉर्न (ऑस्ट्रेलिया)- 108 मैच

NBT

जब भी दुनिया की बेस्ट टीम चुनी जाती है तो इस खिलाड़ी का नाम उसमें अपने आप आ जाता है। स्पिन का सुल्तान कह सकते हैं आप शेन वॉर्न को। टेस्ट क्रिकेट में वॉर्न के नाम 708 विकेट हैं। विश्व क्रिकेट में ऑस्ट्रेलिया की बादशाहत में वॉर्न की भी भूमिका रही। उन्होंने अपनी फिरकी से कई मैदानों पर जादू दिखाया। वॉर्न ने श्रीलंका के खिलाफ गॉल में 500 टेस्ट विकेट का आंकड़ा छुआ। अपने 108वें टेस्ट मैच में हसन तिलकरत्ने को आउट कर वॉर्न इस क्लब में शामिल हुए। इसी सीरीज में मुरली ने भी 500 विकेट पूरे किए थे। वॉर्न ने अपने करियर में 57.4 के स्ट्राइक रेट से विकेट लिए। उन्होंने 145 टेस्ट मैचों में 37 बार पारी में पांच विकेट और 10 बार मैच में 10 विकेट लिए। सबसे ज्यादा टेस्ट विकेट लेने वाले गेंदबाजों की लिस्ट में वह दूसरे नंबर पर हैं।

ग्लेन मैक्ग्रा (ऑस्ट्रेलिया)- 110 टेस्ट

NBT

बात जब सटीकता की होती है तो ग्लेन मैक्ग्रा का नाम सबसे पहले ध्यान में आता है। ऑस्ट्रेलिया की ओर से खेलने वाले सबसे कामयाब तेज गेंदबाज। मैक्ग्रा सारा दिन एक ही स्पॉट पर गेंद फेंक सकते थे। यह उनकी सटीकता का पैमाना था। ब्रेट ली, जेसन गिलेस्पी और शेन वॉर्न के साथ मिलकर यह गेंदबाजी आक्रमण ने दुनियाभर के बल्लेबाजों को परेशान किया। मैक्ग्रा ने अपने करियर में कुल 563 विकेट लिए। वॉर्न के बाद वह ऑस्ट्रेलिया के दूसरे सबसे कामयाब गेंदबाज हैं। ऐशेज सीरीज के दौरान मैक्ग्रा ने 500 टेस्ट विकेट पूरे किए। उन्होंने लॉर्ड्स में इंग्लैंड के मार्कस ट्रेसकॉथिक को आउट कर यह मुकाम हासिल किया। मैक्ग्रा ने कुल 124 टेस्ट मैच खेले।

कर्टनी वॉल्श (वेस्टइंडीज) और जेम्स एंडरसन (इंग्लैंड)- 129 टेस्ट

NBT

वॉल्श टेस्ट क्रिकेट में 500 विकेट लेने वाले पहले गेंदबाज थे। उन्होंने 90 के दशक में वेस्टइंडीज की गेंदबाजी का दम बनाए रखा। वॉल्श ने अपनी सटीकता और उछाल से बल्लेबाजों के परेशानी पैदा की। वहीं इंग्लैंड के जेम्स एंडरसन ने हाल ही में न सिर्फ इंग्लैंड बल्कि दुनिया के चोटी के तेज गेंदबाजों की लिस्ट में जगह बनाई है। दोनों ने अपने 129वें टेस्ट मैच में 500 विकेट पूरे किए थे। वॉल्श ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ साल 2001 में यह उपलब्धि हासिल की वहीं एंडरसन ने 2017 में वेस्टइंडीज के खिलाफ लॉर्ड्स में यह मुकाम हासिल किया। वॉल्श को डेब्यू के बाद यहां तक पहुंचने में 16 साल 128 दिन लगे वहीं एंडरसन 14 साल 108 दिन में इस क्लब में शामिल हुए। एंडरसन के नाम कुल 584 टेस्ट विकेट हैं और वॉल्श ने 519 टेस्ट विकेट लिए थे।

स्टुअर्ट ब्रॉड 140 टेस्ट

NBT

मैनचेस्टर टेस्ट के आखिरी दिन ब्रॉड ने क्रेग ब्रैथवेट को आउट कर इस क्लब में जगह बनाई। वह इस क्लब में जगह बनाने वाले सबसे ताजा बोलर हैं। हालांकि उन्होंने 500 विकेट लेने के लिए सबसे अधिक टेस्ट मैच हासिल किए हैं। ब्रॉड ने 140वें टेस्ट में 500 का आंकड़ा हासिल किया। उन्होंने 18वीं बार पारी में पांच और तीसरी बार मैच में 10 विकेट हासिल किए। ब्रॉड ने सबसे ज्यादा बार डेविड वॉर्नर को 12 बार आउट किया है। इसके अलावा माइकल क्लार्क को 11 और रॉस टेलर को 10 बार आउट किया है।

एंडरसन और ब्रॉड का एक ही शिकार

Source link

Samrat Mixture