Samrat Mixture
Breaking News

अफगानिस्‍तान से लेकर सीरिया तक में तबाही मचा चुका है राफेल जेट, सात युद्धकलाओं में माहिर

Rafale Jet History: लीबिया से लेकर सीरिया तक युद्ध में लोहा मनवा चुके राफेल फाइटर जेट भारतीय वायुसेना का ह‍िस्‍सा बनने जा रहे हैं। ये व‍िमान अपनी अचूक मारक क्षमता के कारण दुनिया के सबसे घातक फाइटर जेट में शामिल क‍िए जाते हैं।

Edited By Shailesh Shukla | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

चीन और पाकिस्तान पर कैसे भारी पड़ेगा राफेल, समझिएचीन और पाकिस्तान पर कैसे भारी पड़ेगा राफेल, समझिए

पेरिस

दुनिया के सबसे घातक फाइटर जेट में शुमार राफेल आज भारतीय वायुसेना का हिस्‍सा बनने जा रहा है। चीन और पाकिस्‍तान के दोहरे मोर्चे से निपटने के लिए भारत ने फ्रांस से 36 राफेल विमान का करार किया है। राफेल फाइटर जेट की संहारक क्षमता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि यह परमाणु बम ले जाने समेत 7 तरीके की युद्ध कला में माहिर है। राफेल की इसी बेजोड़ ताकत के बल पर फ्रांसीसी वायुसेना लीब‍िया से लेकर अफगानिस्‍तान तक में तबाही मचा चुकी है।

करीब 2130 किलोमीटर की रफ्तार से दुश्‍मन पर हमला बोलने वाले राफेल का शाब्दिक अर्थ ‘आग का गोला’ है। राफेल हैमर, मीका, मिट‍िओर जैसी बेहद खतरनाक मिसाइलों से लैस है। राफेल फाइटर जेट एयर सुप्रीमेसी, दुश्‍मन को रोकने, हवाई न‍िगरानी, जमीनी सैनिकों की मदद, दुश्‍मन के घर में घुसकर वार करने, समुद्र में दुश्‍मन के जंगी जहाजों पर हमला करने और सबसे महत्‍वपूर्ण परमाणु हथियारों को ले जाने में सक्षम है। इस तरह एक ही राफेल फाइटर जेट 7 तरीके की भूमिका बखूबी निभाने में सक्षम है। राफेल 3700 किमी की रेंज तक दुश्‍मन को बर्बाद कर सकता है।



राफेल जेट के अल धाफ्रा ठिकाने के पास समुद्र में ईरान ने दागी मिसाइलें

अलकायदा के ठिकानों पर टूट पड़े थे राफेल


वर्ष 2001 में सेवा में आने के बाद राफेल जेट अब तक अफगानिस्‍तान, लीबिया, माली, इराक और सीरिया के युद्ध में तबाही मचा चुके हैं। अमेरिका में 9/11 के हमले के बाद अमेरिका ने अलकायदा के कुख्‍यात आतंकी ओसामा बिना लादेन के ठिकानों पर हमला बोला। इस युद्ध में नाटो देशों ने उसकी मदद की और बाद में फ्रांस की सेना भी इस जंग का हिस्‍सा बनी। दुनिया की इस सबसे लंगी लड़ाई में वर्ष 2007 में फ्रांस ने अपने राफेल विमानों को मैदान में उतार दिया।

Meteor मिसाइल से ‘अदृश्‍य’ दुश्‍मन भी तबाह

  • Meteor मिसाइल से 'अदृश्‍य' दुश्‍मन भी तबाह

    राफेल फाइटर जेट को दुनिया की सबसे घातक हवा से हवा में मार करने वाली Meteor मिसाइलों से लैस किया गया है। आलम यह है कि दुनिया में इस समय जितनी भी मध्‍यम दूरी की एयर टू एयर मिसाइलें हैं, उनसे तीन गुना ज्‍यादा दूरी तक Meteor मिसाइल दुश्‍मन के फाइटर जेट को तबाह कर सकती है। यह मिसाइल आंखों से नजर न आने वाले दुश्‍मन के फाइटर जेट को 100 किमी दूरी से मार गिरा सकती है। इस फ्रांसीसी यूरोपीय मिसाइल के सामने पाकिस्‍तान की अमेरिका निर्मित AMRAAM मिसाइल कहीं नहीं ठहरती है। इसकी स्‍पीड 4 मैक से भी ज्‍यादा है।Meteor को स्‍टील्‍थ मिसाइल कहा जाता है जो किसी भी मौसम में एक के बाद एक टारगेट को निशाना बनाने में सक्षम है। इस घातक मिसाइल में दोतरफा डेटालिंक है। इससे यह रास्‍ते में ही अपना लक्ष्‍य बदल सकती है और सीकर की मदद से नए लक्ष्‍य पर निशाना साध सकती है। इस मिसाइल में रैमजेट इंजन लगा होता है जो उसे लगातार उसे 4 मैक से ज्‍यादा की गति बनाए रखने में मदद करता है।

  • मीका एयर-टू-एयर मिसाइल, दागो और भूल जाओ

    राफेल फाइटर जेट कम और मध्‍यम दूरी तक मार करने वाली मीका (MICA) मिसाइल से लैस है। मीका मिसाइल किसी भी मौसम में दुश्‍मन के ड्रोन और फाइटर जेट को बर्बाद करने में सक्षम है। मीका मिसाइल ‘दागो और भूल जाओ’ के सिद्धांत पर काम करती है। इसे फाइटर जेट और जंगी जहाजों से भी छोड़ा जा सकता है। इस मिसाइल का मिराज-2000 फाइटर जेट में भी इस्‍तेमाल किया जाता है। इसका वजन करीब 112 किलोग्राम होता है। इसकी रेंज 500 मीटर से लेकर 80 किलोमीटर तक है। यह मिसाइल 4 मैक की स्‍पीड से दुश्‍मन पर हमला करती है।

  • स्‍कल्‍प क्रूज मिसाइल, दुश्‍मन के घर में घुसकर वार

    राफेल फाइटर जेट की सबसे बड़ी खासियत इसकी स्‍कल्‍प क्रूज मिसाइलें हैं जो दुश्‍मन के घर में घुसकर तबाही मचाने में सक्षम हैं। स्‍कल्‍प के आ जाने से अब भारत के फाइटर जेट को बालाकोट की तरह से पाकिस्‍तानी एयरस्‍पेस में नहीं घुसना पड़ेगा। स्‍कल्‍प क्रूज मिसाइल की मारक क्षमता 300 किलोमीटर है और इसीलिए इसे ‘गेम चेंजिंज’ मिसाइल कहा जाता है। इसे मिसाइल के जरिए दुश्‍मन के किसी भी बड़े और अतिसुरक्षित ठिकाने को आसानी से बर्बाद किया जा सकता है। फ्रांस की सेना इन मिसाइलों का सफलतापूर्वक इस्‍तेमाल कर चुकी है। इस घातक मिसाइल का वजन 1300 किलोग्राम है। एक स्‍कल्‍प मिसाइल की कीमत करीब साढ़े सात करोड़ रुपये है। यह मिसाइल करीब 1 हजार किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से हमला करती है। स्‍कल्‍प मिसाइल में जीपीएस लगा होता है जो इसे सटीक न‍िशाना लगाने में मदद करता है।

  • हैमर के वार से एक झटके में बर्बाद होंगे चीनी बंकर

    चीन के लद्दाख से सटे पहाड़ी सैन्‍य ठिकानों को बर्बाद करने के लिए भारत ने फ्रांस से हैमर मिसाइलों को खरीदने का फैसला किया है। यह मिसाइल किसी भी प्रकार के बंकर या सख्त सतह को पल में मटियामेट करने की ताकत रखती है। यह किसी भी स्थिति में बेहद उपयोगी है। बेहद कठिन पूर्वी लद्दाख जैसे इलाकों में इसकी मारक क्षमता पर कोई असर नहीं पड़ता है। हैमर मिसाइल 20 किलोमीटर से 70 किलोमीटर की दूरी तक अचूक निशाना लगाने में माहिर है। हैमर को दुश्मन का एयर डिफेंस सिस्‍टम भी पकड़ नहीं पाता है। HAMMER एक अत्याधुनिक हथियार है। इसे कई तरह से संचालित किया जा सकता है। इसे सैटेलाइट के जरिए, इंफ्रा रेड सीकर के जरिए या फिर लेजर के जरिए गाइड किया जा सकता है। यह हवा में कम ऊंचाई से लेकर पहाड़ी इलाको में समान क्षमता के साथ करती है। राफेल एकसाथ 250 किलोग्राम के 6 हैमर मिसाइल को ले जा सकता है। यह एकसाथ 6 टारगेट को निशाना लगा सकता है।

लेजर गाइडेड बमों से लैस राफेल विमानों ने तजाकिस्‍तान के दुसांबे एयरबेस और फ्रांसीसी वायुसेना के एयरक्राफ्ट कैरियर चार्ल्‍स द गॉल से उड़ान भरकर अफगानिस्‍तान में अलकायदा और तालिबान के ठिकानों जमकर कहर बरपाया। अफगानिस्‍तान की जंग से ही राफेल जेट का दुनिया के युद्धक्षेत्र में पदार्पण हुआ। अगले 4 साल तक राफेल ने अफगानिस्‍तान में अलकायदा के ठिकानों पर बम बरसाना जारी रखा।



कर्नल गद्दाफी के ठ‍िकानों पर बरसाए बम


वर्ष 2011 में फ्रांसीसी एयरफोर्स और नेवी ने लीबिया में कर्नल गद्दाफी की सेना के खिलाफ जोरदार हमला बोला। राफेल विमानों ने लीबिया के शहर बेनगाजी और राजधानी त्रिपोली को निशाना बनाया। राफेल यहां पर हमला करने वाले पहले लड़ाकू विमान थे। राफेल के स्‍कैल्‍प क्रूज मिसाइलों, हैमर और लेजर गाइडेड बमों के आगे गद्दाफी की सेना टिक न सकी। लीबिया में राफेल ने टैंक, आमर्ड वीइकल, हथियारों के डिपो, कमांड सेंटर, हवाई ठिकाने और एयर डिफेंस सिस्‍टम समेत सैकड़ों लक्ष्‍यों को मटियामेट कर दिया।

राफेल के ठिकाने के पास ईरान ने दागी मिसाइलेंराफेल के ठिकाने के पास ईरान ने दागी मिसाइलें

हाल ही में तुर्की के एयरबेस पर राफेल का हमला

करीब 20 दिन पहले ही राफेल लड़ाकू विमानों ने लीबिया में स्थित तुर्की के अल वाटिया एयरबेस पर जबरदस्त हमला बोला है। इसमें तुर्की के कई प्लेन, ड्रोन और फिक्स विंग एयरक्राफ्ट बर्बाद हो गए। दावा किया जा रहा है कि हमलें में तुर्की के कई सैनिक भी हताहत हुए हैं। द अरब वीकली की रिपोर्ट के अनुसार, लीबिया को लेकर मिस्र और तुर्की के बीच तनाव चरम पर है।

तुर्की ने लीबिया की राजधानी त्रिपोली से 125 किलोमीटर दूर नूकत अल कमस जिले में अल वाटिया एयरबेस पर अपने फाइटर जेट, ड्रोन और मिसाइल सिस्टम को तैनात किया है। इसे मिस्र और फ्रांस अपनी सुरक्षा के लिए खतरा बताते रहे हैं। मिस्र ने कई बार इसे लेकर तुर्की को चेतावनी भी दी थी। इस रिपोर्ट के अनुसार, हाल में ही तुर्की के रक्षा मंत्री हुलुसी अकार ने त्रिपोली की यात्रा की थी। माना जा रहा है कि इसी के जवाब में मिस्र और फ्रांस ने इस हवाई हमले को अंजाम दिया है।

राफेल को उड़ाने वाले 'गोल्डन एरो' स्क्वॉड्रन की शौर्य गाथाराफेल को उड़ाने वाले ‘गोल्डन एरो’ स्क्वॉड्रन की शौर्य गाथा

…जब ISIS आतंकियों का काल बने राफेल

राफेल विमान अफ्रीकी देश माली में कहर बरपा चुके हैं। माली में राफेल विमान करीब 9 घंटे 35 मिनट तक हवा में रहे और 21 ठिकानों को बर्बाद किया था। राफेल विमानों ने वर्ष 2014 में इराक में कुख्‍यात आतंकी संगठन आईएसआईएस के ठिकानों को भीषण बमबारी करके बर्बाद कर दिया था। इस हमले में कई आईएसआईएस आतंकी मारे गए थे। राफेल की सबसे बड़ी ताकत इसकी किलर मिसाइलें हैं।

राफेल फाइटर जेट को दुनिया की सबसे घातक हवा से हवा में मार करने वाली Meteor मिसाइलों से लैस किया गया है। यह मिसाइल आंखों से नजर न आने वाले दुश्‍मन के फाइटर जेट को 100 किमी दूरी से मार गिरा सकती है। राफेल फाइटर जेट की सबसे बड़ी खासियत इसकी स्‍कल्‍प क्रूज मिसाइलें हैं जो दुश्‍मन के घर में घुसकर तबाही मचाने में सक्षम हैं। स्‍कल्‍प के आ जाने से अब भारत के फाइटर जेट को बालाकोट की तरह से पाकिस्‍तानी एयरस्‍पेस में नहीं घुसना पड़ेगा। स्‍कल्‍प क्रूज मिसाइल की मारक क्षमता 300 किलोमीटर है और इसीलिए इसे ‘गेम चेंजिंज’ मिसाइल कहा जाता है।

अफगानिस्‍तान से लेकर लीबिया में तबाही मचा चुका है राफेल

अफगानिस्‍तान से लेकर लीबिया में तबाही मचा चुका है राफेल

Web Title rafale jet has devastated from afghanistan to syria war expert in omnirole(Hindi News from Navbharat Times , TIL Network)

रेकमेंडेड खबरें

Source link

Samrat Mixture