Samrat Mixture
Breaking News

विराट कोहली की कप्तानी रिकी पॉन्टिंग जैसी है

Edited By Bharat Malhotra | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

रिकी पॉन्टिंग-विराट कोहलीरिकी पॉन्टिंग-विराट कोहली

अमित कुमार, नई दिल्ली

विराट कोहली (Virat Kohli) ने अभी तक कई रेकॉर्ड्स अपने नाम कर लिए हैं। भारतीय क्रिकेट के कप्तान की गिनती अभी से महान खिलाड़ियों में होने लगी है। रन बनाने की उनकी भूख लगातार बढ़ती जा रही है। लगातार रन बनाने के साथ-साथ कोहली की आक्रामकता के चलते उनकी तुलना कई पूर्व कप्तानों के साथ होती है।

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व तेज गेंदबाज ब्रेट ली (Brett Lee) को लगता है कि कोहली की कप्तानी काफी हद तक ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पॉन्टिंग (Ricky Ponting) से मिलती-जुलती है।

ली ने हमारे सहयोगी टाइम्सऑफइंडिया.कॉम को दिए एक खास इंटरव्यू में कहा, ‘हर किसी की कप्तानी का तरीका अलग होता है। अगर आप रिकी पॉन्टिंग और विराट कोहली को देखें तो पाएंगे उन दोनों की कप्तानी में काफी समानता है। दोनों आक्रामक हैं, लेकिन वह इसकी सीमाएं भी जानते हैं।’

ली ने कहा, ‘ऐसे मौके आए हैं जब सभी कप्तान बहुत अधिक आक्रामक हो जाते हैं। लेकिन मुझे कोहली की कप्तानी देखने में मजा आता है। क्योंकि उनकी कप्तानी में पूरा जुनून होता है। वह टीम के लिए अच्छा करना चाहते हैं।’

कोहली मैदान पर पूरे जज्बे के साथ उतरते हैं। इसके साथ ही फिटनेस को लेकर उनकी निष्ठा ने टीम को भी उस दिशा में आगे बढ़ाया है। कोहली की कप्तानी में भारतीय टीम ने तीनों प्रारूपों में सफलता हासिल की है।

कोहली ने साल 2014 में महेंद्र सिंह धोनी से टेस्ट कप्तानी ली थी और जनवरी 2017 में वह सीमित ओवरों के भी कप्तान बने।

कोहली की कप्तानी में भारत ने ऑस्ट्रेलिया को उसी की धरती पर टेस्ट सीरीज में हराया। ऐसा करने वाले वह पहले एशियाई कप्तान बने।

ऑस्ट्रेलिया के लिए 76 टेस्ट और 221 वनडे व 25 टी20 इंटरनैशनल खेलने वाले ली ने सौरभ गांगुली और महेंद्र सिंह धोनी कोहली के खिलाफ खेला है। उन्होंने तीनों की कप्तानी में अंतर पर भी अपनी राय रखी।

ली ने कहा, ‘मैंने धोनी और गांगुली के खिलाफ खेला है। वे अलग कप्तान थे। उनका तरीका थोड़ा शांत-चित कप्तानी करने का था। लेकिन वह बहुत प्रभावी था। आपको वही तरीका आजमाना चाहिए जो आपके लिए कारगर हो और आपके खिलाड़ियों से सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करवा सकता हो। लेकिन कुछ लोग ऐसे होते हैं जो बहुत अच्छे टीम मैनेजर होते हैं। वह अपनी टीम के टैलंट को काफी अच्छी तरह संभालते हैं। असल में यही तो कप्तान का काम है। कप्तान अच्छा नेतृत्वकर्ता होना चाहिए। खिलाड़ी उससे प्रेरणा ले सकें और उसका सम्मान करें और गांगुली, धोनी और कोहली बेशक ऐसे ही हैं।’

अगर बल्लेबाजी की बात करें तो विराट का कोई सानी नजर नहीं आता। 2008 से अपने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की शुरुआत से लेकर अब तक वह 20 हजार से ज्यादा अंतरराष्ट्रीय रन बना चुके हैं। इसमें 70 शतक शामिल हैं। सचिन तेंडुलकर के 49 वनडे शतक के रेकॉर्ड को तोड़न से वह सिर्फ सात कदम दूर हैं।

ली ने आगे कहा, ‘कोहली की कप्तानी के अलावा जिस तरह से वह बल्ले से प्रदर्शन करते हैं वह लाजवाब है। यह भी रिकी पॉन्टिंग की तरह है। उनके पास आक्रामकता है लेकिन जरूरत से ज्यादा नहीं। इसमें एक अच्छा संतुलन है। कप्तानी की बात करें तो उन दोनों में काफी समानताएं हैं। इसके साथ ही उनमें खिलाड़ियों की क्षमताएं पहचानने की कला है। अगर आप देखें कि रिकी पॉन्टिंग किस तरह की फील्डिंग लगाते थे। वे इसमें काफी आक्रामक थे। मैंने कोहली के साथ भी ऐसा देखा है। कोहली को अटैक करने में मजा आता है।’

Source link

Samrat Mixture