Samrat Mixture
Breaking News

कोरोना वायरस प्रोटीन का नया फॉर्मेट तैयार, वैक्सीन बनाने में आएगी तेजी

कोरोना वायरस वैक्सीनकोरोना वायरस वैक्सीन
हाइलाइट्स

  • कोरोना वायरस वैक्सीन को लेकर खुशखबरी, प्रोटीन का नया फॉर्मेट तैयार
  • वैज्ञानिकों ने कहा- प्रोटीन के नए फॉर्मेट से वैक्सीन बनाने की स्पीड बढ़ेगी
  • हेक्साप्रो प्रोटीन की खोज से वैज्ञानिक उत्साहित, एंटीबॉडी टेस्ट में भी इसका प्रयोग

ह्यूस्टन

वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस से लिये गये उस प्रमुख प्रोटीन का नया फॉर्मेट (प्रारूप) तैयार कर लिया है। जिसका इस्तेमाल कोरोना वायरस मानव की कोशिका में प्रवेश करने और उसे संक्रमित करने में करता है। यह खोज कोविड-19 के खिलाफ टीके के कहीं अधिक तेजी से उत्पादन में सहायता कर सकती है।

कोरोना के प्रोटीन को करेगा नष्ट

अमेरिका के ऑस्टिन स्थित टेक्सास विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों सहित अनुसंधानकर्ताओं के मुताबिक कोविड-19 पर विकासित किये जा रहे ज्यादातर टीकों में मानव रोग प्रतिरक्षा प्रणाली (Human disease immune system) को कोरोना वायरस की सतह पर एक मुख्य प्रोटीन की पहचान करने को लक्षित किया जाता है। इसे संक्रमण से लड़ने वाला स्पाइक (एस) प्रोटीन कहा जाता है।

स्पाइक प्रोटीन की तुलना में 10 गुना ज्यादा तेज

साइंस जर्नल में प्रकाशित मौजूदा अध्ययन में वैज्ञानिकों ने इस प्रोटीन के एक नये फॉर्मेट को तैयार किया है, जो कोशिका में पहले के कृत्रिम एस प्रोटीन की तुलना में 10 गुना अधिक बन सकता है। अध्ययन के वरिष्ठ लेखक एवं टेक्सास विश्वविद्यालय के जैसन मैक लेलन ने कहा कि टीका किस प्रकार का है, इसके आधार पर, प्रोटीन का यह नया प्रारूप हर खुराक का आकार घटा सकता है या टीके के उत्पादन में तेजी ला सकता है।

Corona Vaccine की रेस तेज लेकिन 2021 से पहले मिलना मुश्किल: WHO एक्सपर्ट

कोरोना का टीका बनाने में आएगी तेजी

उन्होंने कहा कि इसे इस रूप में भी देखा जा सकता है कि कहीं अधिक मरीजों की टीके तक तेजी से पहुंच बनेगी। नये प्रोटीन को हेक्साप्रो नाम दिया गया है और यह टीम के शुरूआती एस प्रोटीन के प्रारूप से कहीं अधिक स्थिर है। वैज्ञानिकों के मुताबिक इसका भंडारण और परिवहन करना कहीं ज्यादा आसान होगा। उन्होंने कहा कि नया एस प्रोटीन सामान्य तापमान में भंडारण के दौरान कहीं अधिक तापमान को भी सहन कर सकेगा।

कोरोना वायरस की वैक्सीन बनी नहीं और दुनिया में ‘कब्‍जा’ करने की होड़ तेज

एंटीबॉडी जांच में भी प्रोटीन का प्रयोग

अध्ययन के मुताबिक हेक्साप्रो का उपयोग कोविड-19 एंटीबॉडी जांच में भी किया जा सकता है, जहां यहा मरीज के रक्त में एंटीबॉडी की मौजूदगी का पता लगाने में मदद करेगा। इससे यह संकेत मिलेगा कि क्या वह व्यक्ति पहले इस वायरस से संक्रमित हुआ था।

अगले महीने मिल जाएगी कोरोना वैक्‍सीन: दावाअगले महीने मिल जाएगी कोरोना वैक्‍सीन: दावा

Source link

Samrat Mixture